समर्थक

सोमवार, जून 08, 2009

‘‘संगठन मे ही शक्ति है।’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

पिछले कुछ दिनों से मेरे नगर में विजली का संकट चल रहा है। कारण यह बताया जाता है कि लोहियाहेड (खटीमा) का पावर हाउस खराब हो गया है।

नगरवासी आखिर कब तक धैर्य रखते। वो इकट्टे होकर बिजली घर पर पहुँच गये। इस दौरान कई बिजली कर्मियों से उनकी तू-तू, मैं-मैं भी हो गयी।

यह देखकर अभियन्ता महोदय वहाँ से चुपचाप खिसक लिए और पुलिस थाने में ही आकर दम लिया। उनके पीछे-पीछे भीड़ भी थाने में ही चली आयी। पुलिस वाले भी तो आखिर इन्सान ही होते हैं। उन्हें भी गर्मी तो सताती ही है।अतः सबके सामने ही इन अभियन्ता महोदय को खूब खरी खोटी उन्होंने भी सुनाई।

तब से बिजली की स्थिति में मेरे नगर में सुधार आ गया है।

इसी से सम्बन्धित एक घटना आज से 20 वर्ष पूर्व हुई थी। उन दिनों यहाँ के विधायक नैनीताल निवासी श्री विहारी लाल जी थे।

बिजली खटीमा में लोहियाहेड में बनती थी मगर उत्तर प्रदेश होने के कारण वितरण दोहना, बरेली से होता था।अतः बिजली की स्थिति लचर ही रहती थी।

इत्तफाक से विहारी लाल जी खटीमा दौरे पर आये हुए थे। उनके सामने जब यह समस्या लोगों ने रखी तो सीधे लोहियाहेड बिजली इंजीनियर के पास गये। लेकिन वो सीधे मुँह बात करने को राजी नही था।

बिहारी लाल जी ने बहला-फसला कर उन्हें अपनी जीप में बैठाया और बनबसा के पास गढ़ीगोठ गाँव में एक भैसों की खोड़ में बन्द कर दिया।

इस प्रकरण की काफी धूम रही।

उन दिनों उ0प्र0 के मुख्यमन्त्री मा0 पं0 नारायणदत्त तिवारी होते थे। जब उनके पास यह प्रकरण गया तो उन्होंने खटीमा में विजली वितरण खटीमा के ही लोहियाहेड पावरहाउस से करने के आदेश कर दिये।

अब तो खटीमा में बिजली खूब आने लगी थी।

कहने का तात्पर्य यह है कि यदि जनता अपने अधिकारों के प्रति जागरूक है तो समस्याओं का निदान हो ही जाता है। परन्तु इसके लिए संगठित हाने की आवश्यकता है।

सच ही कहा है- ‘‘संगठन मे ही शक्ति है।’’

3 टिप्‍पणियां:

  1. humaare mohalle me aur aas paas ke ilaake me lagbhag ek maheene tak lagaatar 6-7 ghnate bijli kaati gayee...abhi jaake haalat sudhri hai varnaa humari dasha aap samajh lijiye...kaash yahan bhi aisa koi udaaharn pesh hota...

    www.pyasasajal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapne kamaal ye kiya ki vishya ko baariki se baandh kar rakha aur rochak bhi banaya...badhai !

    उत्तर देंहटाएं
  3. sahi kaha aapne.........sabak jab tak na sikhaya jaye sunta kaun hai.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।