समर्थक

सोमवार, जून 01, 2009

‘‘क्या ब्लागिंग नशा है?’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)

जिस समय मैंने कक्षा 10 की बोर्ड की परीक्षा दी तो तीन महीने की लम्बी छुट्टियाँ पड़ गयीं। मैंने सोचा कि इनका सदुपयोग किया जाये। अतः इंग्लिश टाइपिंग सीखने का मन बना लिया।

उन दिनों मेरे गृह-नगर नजीबाबाद में मुल्ला जी एक टाइपिंग सेन्टर चलाते थे। वहाँ पर मैंने दस रुपये प्रतिमाह की दर से टाइपिंग सीखनी शुरू कर दी। लगन इतनी थी कि 4-5 दिनों में ही मैंने पूरा की-बोर्ड याद कर लिया और फटा-फट टाइप करने लगा। पिता जी ने मेरी रुचि देख कर दो सौ रुपये में मुझे एक टाइप-राइटर भी दिलवा दिया।

उन दिनों हिन्दी टाइपिंग ठीक से प्रचलन में नही था। लेकिन मेरे मन में अपनी मातृ-भाषा में ही टाइप करने की प्रबल इच्छा थी।

दो साल बाद इण्टर करने के बाद फिर तीन महीने की लम्बी छुट्टियाँ पड़ गयीं। मैं अपने मामा जी के पास घूमने चला गया। मेरे मामा जी के पास उन दिनों 20 खच्चरें थी और वो पहाड़ में माल पहुँचाने के जाने-माने ठेकेदार थे।

कभी-कभी वे नेपाल के दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र में भी आम जरूरत के सामान का भी ढुलान किया करते थे।

मेरी पहली नेपाल यात्रा 1967 में ही शुरू हुई थी। नेपाल जाकर मैंने देखा कि विदेशी सामान की एक दूकान पर कुछ पोर्टेबल टाइप राइटर भी रखे हुए थे। उनमें एक हिन्दी टाइप राइटर भी था। बस उसे देख कर मेरा मन ललचा गया।

मामा जी से पैसे लेकर वोटाइप-राइटर मैंने साढ़े पाँच सौ रुपये में खरीद लिया। घर आकर उसका अभ्यास किया तो एक सप्ताह में हिन्दी टाइपिंग भी सीख लिया।

अब मैं कमाने लगा था और 1995 आते-आते मेरी आथिक स्थिति भी अच्छी हो गयी थी। कम्प्यूटर का युग अब शरू हो गया था। अतः मैंने एक लाख रुपये व्यय करके एक कम्प्यूटर भी खरीद लिया था और 1997 में मैंने सिर्फ किताब को गुरू मान कर इसे चलाना सीख लिया था।

इसके 10 साल बाद नेट का युग भी आया। मैं अब नेट भी चलाने लगा था, परन्तु नेट पुराने गाने, गेम आदि खेलने के लिए ही प्रयोग करता था। तब तक ब्राड-बेण्ड नही आया था। इसलिए नेट बहुत धीमा चलता था।

सन् 2008 में मेरे नगर खटीमा में ब्राड-बैण्ड की सुविधा उपलब्ध हो गयी और जनवरी 2009 के अन्त में मन में इच्छा हुई की अपना एक ब्लाग बना कर उसमें कुछ लिखा जाये।

एक मित्र की कृपा से मेरा ब्लाग बन गया और तब से नियमित रूप से प्रतिदिन अपने ब्लाग उच्चारण में कुछ न कुछ अवश्य लिखता हूँ।

अभी परसों की ही बात है। मेरे घर में छुट-पुट निर्माण कार्य चल रहा था। शाम को 6 बजे जैसे ही राज-मजदूर छुट्टी करके गये। मैं नेट पर आ गया और अपने काम में तल्लीन हो गया था। लेकिन मच्छरों की क्वाइल जलाना भूल गया था। पैरो में मच्छर काट रहे थे और हाथ की बोर्ड पर चल रहे थे।

आखिर ये कैसा नशा है? कभी-कभी तो भूख-प्यास का भी आभास नही होता है और समय कब गुजर गया इसका पता ही नही लगता है।

क्या ब्लागिंग वास्तव में नशा है?

14 टिप्‍पणियां:

  1. मयंक जी मुझे भी लगता है कि ये नशा ही है मै तो अभी सात माह से ही ब्लो्गिंग मे आई हूं अब हाल ये है की इस से चिपक कर रह गयी हूं अब पत्रिकायें पुस्तकें तो छूट सी गयी ह यहीम बहुत कुछ पढने को मिल जाता है शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके इस उत्साह को सलाम करता हूं आपका जोश और काम करने की उमंग प्रेरणा देने वाली है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगनशील तो आप हैं ही!
    अंतरजाल पर किए गए
    क्रिया-कलापों से झलकता है!
    -------------
    काश!
    हम भी जान पाते कि
    आपके ये मित्र कौन हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिसमें मन लग जाये वही नशा है । ब्लागिंग ने दुनिया समेट कर रख दी है आपके सामने । औरों के भाव पढ़ने में और अपने व्यक्त करने का इससे सुगम साधन और क्या हो सकता है भला ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. meri samajh me toh yah koi nasha nahin...kyonki nasha buddhi bhrasht karta hai aur ye buddhi ko va hamaaree soch ko vistaar deta hai use parishkrit karta hai ...sath hi nasha hamen achhe logon se door karta hai aur ye hamen roz roz naye naye guni logon k nazdeek lata hai...lekin aapke mutabik agar ye nasha bhi hai toh sarvotkrisht nasha hai ....main bhi ek maheene se iska aadi ho gaya hoon aur aaj sochta hoon ki kash!!!!!!!!!kash ye nasha mujhe kuchh saal pahle lag jata toh main voh nahin karta jisne mujhe barbaad kar diya ....bloging baba zindabad..zindabad
    -albela khatri

    उत्तर देंहटाएं
  6. shastri ji
    pata nhi ye nasha hai ya kuch aur magar ab to halat ye hai ki blog par aaye bina chain nhi aata.
    yahan ek apnepan ka ahsaas sa hota hai.kuch yun lagta hai jaise koi hamein bula raha hai agar ek din bhi isse door ho jao to.
    main pahle kafi patrikayein padhti thi magar ab sab khatm ho gaya hai kyunki har tarah ki jankari ,kavita,kahani etc. sab yahin mil jata hai.

    ho sakta hai ye nasha ho magar kuch nashe zindagi sanwaar bhi dete hain,shayad ye wo hi nasha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिस काम को पूरी लगन और विश्वास के साथ लगातार किया जाए वह तो अपने आप ही नशा बन जाता है। वैसे तो लिखना ही अपने आप में सबसे बड़ा नशा है। जब आप लिखते हैं तो उसमें एक जुनून होता है। और आप चाहते हैं कि आपका यह जुनून सबके सामने भी आए। ऐसे में ब्लाग ने लिखने वालों को एक माध्यम दे दिया है। आज ब्लाग बिरादरी में लगातार लिखने वाले इसके नशे के आदी हो गए हैं। चलो कम से कम यह एक ऐसा नशा है जो लाभदायक है। अगर सभी इसी तरह से काम का नशा करने लगे तो फिर शराब और दूसरे नशों की जरूरत की क्यों कर पड़े। हमें भी लगता है कि ब्लाग का नशा लग गया है, वरना रात को रोज प्रेस का काम समाप्त करके एक-दो बजे सोने के बाद ब्लाग लिखने के लिए ही हम सुबह जल्दी उठ जाते हैं। जब ब्लाग जगत से नहीं जुड़े थे तो देर तक सोते थे और 9 बजे से पहले कभी नहीं उठते थे, पर अब 6 बजे उठ जाते हैं। यह इस बात का सबूत है कि ब्लागिंग एक लाजवाब और खुबसूरत नशा है जिसे हर कोई करना चाहेगा, जिसे हर उस इंसान को करना चाहिए जिसको लेखन में थोड़ी सी भी रूचि है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इसी को प्यार कहते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह सही है की किसी भी kaary का vyasan नहीं hona चाहिए,पर नशा yadi सही और अच्छे काम का हो तो इससे अच्छा तो और कुछ हो ही नहीं सकता...

    Sarthak कर्म में satat sanlagn rahen,yshi shubhkamna है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक कैफ़ियत सी है,नशा भी कह सकते है,पर जब तक बिल्कुल दीवानगी की हद को पार ना करे ऐसी कोई बुराई नही है

    नाटक का दूसरा अंक पोस्ट कर दिया है,पढ़ियेगा

    उत्तर देंहटाएं
  11. मयंक जी, ये एक नशा ही है क्यौंकी मै पिछले ढाई साल से ब्लोग्गिं कर रहा हु, बहुत बार इस्से दुर रहने की कोशिश की लेकिन कामयाब नही हुआ। अब चाहे जो हो जाये हर हाल हम अपने कम्पुटर मे सर दिये बैठे होते है और अब तो इस आदत से घर वाले आज़िज़ आ चुके है कोई केह्ता है तबियत खराब हो जायेगी। कोई केह्ता है आखें खराब हो जायेगीं

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।