समर्थक

रविवार, फ़रवरी 06, 2011

"देख लूँ तो चलूँ"-समीर लाल "समीर" (समीक्षक-डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

      हम रोजाना घटनाओं को देखते हैं और उनसे नजरे बचाते हुए चले जाते है। परन्तु कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो इन घटनाओं को शब्दों की माला में मोतियों की भाति पिरो लेते हैं। जिसको हम सम्वेदना के नाम से जानते हैं। 
उपन्यासिका के रूप में प्रकाशित "देख लूँ तो चलूँ" में ऐसी ही रोजमर्रा की घटनाओं को बाँधा गया है। जो न केवल जन-मानस को झकझोरती हैं अपितु प्रेरणा और शिक्षा भी देती है कि जीवन चलने का नाम है।
     सड़क चलते पात्रों को अपने से जोड़ लेना और उनके मुँह से कही गई बातों को एक दस्तावेज के रूप में प्रस्तुत करना शायद समीर लाल "समीर" ही जानते हैं!
      इनके द्वारा लिखे गये जीवन के अनुभव पाठकों के मन में आशा का संचार करते हैं।
        29 जुलाई, 1963 को रतलाम में जन्मे और उसके बाद जबलपुर (म.प्र.) में 1999 तक पले-बढ़े समीर लाल किसी भी परिचय के मुहताज़ नहीं है। क्योंकि उन्हें पूरा हिन्दी ब्लॉग जगत ब्लॉगिंग के पुरोधा के रूप में जानता है। वर्तमान में ये कनाडा में प्रवासी है और वहाँ के प्रतिष्ठित बैंक में तकनीकी सलाह के पद पर कार्यरत हैं।
       आज जहाँ ब्लॉगरों में नये-नये कलात्मक रंगों से सजे ब्लॉग बनाने की होड़ लगी हुई है वहाँ पर समीर लाल समीर एक ऐसा ब्लॉगर है जिसका केवल एक ही ब्लॉग है- 
"उड़न तश्तरी" http://udantashtari.blogspot.com/ 
जिसमें प्रकाशित अपने साहित्य स्रजन को इस साहित्यकार ने पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया है।
        जीवन के मोड़ पर बिखरी हुई घटनाओं को समीर लाल "समीर" ने 88 पृष्ठों की एक लघु उपन्यासिका के रूप में पाठकों के सामने प्रस्तुत किया है। "देख लूँ तो चलूँ" की भूमिका में मेरीलैंड के प्रवासी भारतीय साहित्यकार राकेश खण्डेलवाल ने लिखा है- "...समीर एक ऐसे ही मुसाफिर हैं जो जिन्दगी के हर कदम से उठा-उठाकर कहानियाँ चुनते हैं और बड़ी खूबसूरती से उन्हें सबके सामने प्रस्तुत करते हैं।,,,,," 
वे आगे लिखते हैं 
".....आज के समाज के मुद्दे, बाल मजदूरी, समलैंगिकता, पारिवारिक वातावरण, सामंजस्य, विचलित मनोवृत्तियाँ, और ओढ़ी हुईकृत्रिमताएँ किस कदर सामने आतीं हैं और उन्हें किस तरह प्रस्तुत किया जाता है कि वे कहीं तो जिन्दगी का एक अहम हिस्सा बन जाती हैं और कहीं समाज के माथे पर लगे एक काले दाग की तरह नज़र आती हैं।...."
         मेरे विचार से समीर लाल "समीर" ने- 
जिन्दगी को 
सफर की तरह लिया है 
और जीवन को सफर में 
भरपूर जिया है
कभी अमृत तो
कभी गरल पिया है
         उन्होंने इस पुस्तक के पृष्ठ 13 पर लिखा है-
"राहों में भी रिश्ते बन जाते हैं
ये रिस्ते भी मंजिल तक जाते हैं
आओ तुमको एक गीत सुनाते हैं
अपने संग थोड़ी सैर कराते हैं......"
         इस उपन्यासिका में अपनी बात बिना किसी लाग-लपेट के कहना और पाठक ऊब न जाएँ इसलिए बीच-बीच में अपनी काव्यात्मक अभिव्यक्तियों का भी समावेश इसमें किया है।
        समीर लाल ने अपने लेखनी से जहाँ रोजमर्रा की चर्या को शब्दों में बाँधा है वहीं उन्होंने परदेश की पीड़ा का भी बाखूबी उल्लेख किया है।
".....वो जड़
जिसे तुम्हारे ही अपनों ने
दीमक की तरह
चाट-चाटकर
खोखला कर दिया है...
..................
कितना मनभावन लगता है
रेल के उस वातानुकूलित
डिब्बे में बैठकर देखना.....
तालाब में कूदकर
न्हाते बच्चे,
धूल से सने पैर लिए
आम के पेड़ के नीचे
सुस्ताते ग्रामीण
उपलों पर थापी रोटी को
प्याज के साथ खाते हुए
लोग........
..................................
कभी इत्मिनान से सोचना
किसका दर्द वाकई दर्द है
जो तुमने कागज पर
उडेल दिया है.........."
       कितनी पीड़ा छिपी है समीर की इस अभिव्यक्ति में।
वर्तमान परिपेक्ष्य में अपनी चिन्ता प्रकट करते हुए लेखक कहता है-
"आज तो भारत में बेटों की हालत भी ऐसी हो गई है कि वो माँ-बाप को बोझ समझने लगे हैं। मगर फिर भी थोड़ा-बहुत समाज और संस्कारों का डर है तो फर्ज़ निभा ही लेते हैं।...."
पुस्तक के अन्त में जीवन का सन्देश देते हुए समीर लिखते हैं कि-
"सबको हक है अपनी तरह जीने का...
लेकिन पूर्णविराम......?
वो मुझ पसंद नहीं फिर भी।
थमी नदी के पानी में
एक कंकड़ उछाल
हलचल देख 
मुस्कराता हूँ मैं...
यह भला कहाँ मुमकिन...
फिर भी 
बहा जाता हूँ मैं।।
फिर भी 
बहा जाता हूँ मैं।।"
        यहाँ रचनाधर्मी के कहने का तात्पर्य यही रहा होगा कि चलना ही जिन्दगी है और थमना-रुकना तो सड़ने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है।
मैंने "देख लूँ तो चलूँ" को एक बार तो सरसरी नजर से पढ़ा मगर मन नहीं भरा तो तो दोबारा इसे समझ-समझकर पढ़ा। कहने को यह उपन्यासिका जरूर है मगर इसमें पूरा जीवनदर्शन मुझे नज़र आया है।
      कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि "देख लूँ तो चलूँ" एक अनूठी कृति है जो मेरी कसौटी पर खरी उतरी है। इसमें 
बचपन का गाँव,
बूढ़े बरगद की छाँव,
माटी के घरौंदे,
तलैय्या का पानी,
नानी की कहानी,
खेत में हुड़दंग,
होली का रंग, 
....................
सभी कुछ तो है।

30 टिप्‍पणियां:

  1. छोटी और मीठी समीक्षा......

    उत्तर देंहटाएं
  2. समीर जी की पुस्तक की आप द्वारा लिखी समीक्षा पढ़ी.
    पुस्तक के उदृत अंश उनके भावुक मन की पहचान छोड़ने में सफल हैं,
    समीर जी को पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. समीर जी को पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक अच्छी समीक्षा , अब तो समीर जी की इस "देख लूँ तो चलूँ" को पढने का भी दिल करने लगा है

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर समीक्षा ... साधुवाद ... समीर जी को पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर एवं सारगर्भित समीक्षा

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन समीक्षा की है आज ही पूरी पढी है।

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. समीर जी एक अच्छे व्यक्तिव के धनी हैं और उनकी रचनाएं बहुत ही सार्थक संदेश देती होती हैं।
    आपकी समीक्षा अत्यंत ही सुंदर है

    उत्तर देंहटाएं
  10. Am gasit un site nou de [url=http://www.filmepornogratis.info/]Filme Porno[/url]

    उत्तर देंहटाएं
  11. साझा करने के लिए शुक्रिया गुरु जी, अभी अभी समीर जी के ब्लॉग पे जा के तोता राम की तारीफ कर के आया हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  12. समीर जी की पुस्तक की समीक्षा बहुत रोचक अंदाज से की है आपने.... समीर जी का लेखन भी बहुत उम्दा है... किताब के प्रति जिज्ञासा बड गयी है... अब इंतजारी है कि पुस्तक कहा मिले .... सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर समीक्षा...आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  14. Hello. Please can you help me with thew following project.

    Download the following archive

    http://www.fileserve.com/file/fFngPhU/PSD-FILE.rar

    and tell me if you can slice the following PSD files.

    For each sliced PSD you will get 200 $ via Paypal. Payment will be made 50 % upfront.

    Thanks
    Mary

    उत्तर देंहटाएं
  15. [url=http://www.mydirtyhobby.com/?sub=11421] mydirtyhobby amateure[/url]
    [url=http://www.mydirtyhobbycom.de.vu] mydirtyhobby Amateurpornos[/url]
    [url=http://www.mydirtyhobbycom.de] mydirtyhobby Amateurpornos[/url]

    उत्तर देंहटाएं
  16. hey!
    just signed up at powerofhydro.uchcharan.com and want say hi to all!

    Cheers

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत उम्दा समीक्षा...आपका स्नेह है! इसे बनाये रखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  18. [URL=http://the-reversephone.com/reverse-phone-lookup-explained/reverse-phone-lookup-find-out-who-is-behind-that-number/]reverse phone lookup[/URL]
    [URL=http://www.buzzle.com/articles/making-use-of-reverse-phone-lookup-services.html]reverse phone lookup[/URL]
    [URL=http://howtocooki.com/how-to-cook-learn-how-to-cook/]how to cook[/URL]

    उत्तर देंहटाएं
  19. समीर जी को पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. कल है तेदीिवेय्र डे मुबारक हो आपको एक दिन पहले

    _____#####__________####_____
    ____#_____#_#####__#____#____
    ___#__###_##_____##__###_#___
    ___#__##___________#__##_#___
    ___#_____________________#___
    ____#__#___##___##___#_##____
    _____##____##___##____#______
    ______#_______________#______
    ______#______###_____________
    ______#_____#_###_____#______
    ______#______###______#______
    _______#__##_____##__#_______
    _____###____#####____###_____
    ___##___#___________#___##___
    __#______####___####______#__
    _#___________###___________#_
    #__#______________#______#__#
    #___#__###_________###__#___#
    #___###_______________###___#
    _#__#__#_____________#__#__#_
    __##__####____#____##_#__##__
    _____#____#_______#____#_____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____##____###___###____#_____
    _____##################____

    Happy Teddy Vear Day

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर समीक्षा !हार्दिक बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  22. Hi there :-)
    Impressing page. Bookmarked:-)

    उत्तर देंहटाएं
  23. CypeReump [url=http://www.freeteethwhiteningguide.com]tooth whitening[/url] Darmairkeee [url=http://www.freecnatrainingguide.com]cna certification[/url] WsySisak [url=http://cheapautoinsurancequotes.reviewsz.net]cheap auto insurance quotes[/url] ritagnqtiejws [url=http://cnatraining.reviewsz.net]cna training[/url] dtrheanujdmutthg [url=http://kindle3.reviewsz.net]kindle 3g[/url] nUsespsspeo [url=http://buymarijuanaseedsforsale.com]cannabis seeds[/url] inboklfpRcFofo [url=http://keybankonline.reviewsz.net]key bank online[/url] geodddessmsmm [url=http://tescocarinsurance.reviewsz.net]tesco car insurance[/url] nnespBroefed [url=http://tescocreditcard.reviewsz.net]tesco credit card[/url] Exhamyday [url=http://marijuanaseedsforsale.net]marijuana seeds for sale[/url] CypeReump [url=http://weedseedsforsale.com]cannabis seeds[/url] nicviuwikres [url=http://googlesniper2.reviewsz.net]google sniper review[/url] oStHejrygffigl [url=http://suntrustonlinebanking.reviewsz.net]suntrust internet banking[/url] tootexcertabe [url=http://westpaconlinebanking.reviewsz.net]westpac bank online[/url] Brurbcich [url=http://deutschebankonline.reviewsz.net]deutsche bank[/url] TretleLette [url=http://huntingtononlinebanking.reviewsz.net]huntington bank online[/url] inimbGata [url=http://bit.ly/gdT4wp]kindle 3[/url] Vaphalorwanna [url=http://tinyurl.com/65ymxpd]buy kindle[/url] Busessenitank [url=http://www.5z8.info/rickroll_zsn]buy kindle[/url] StetNelahed [url=http://is.gd/QhnjL3]kindle[/url] BypeHeise [url=http://ow.ly/3QPRg]kindle 3[/url] Kayadeott [url=http://snipurl.com/1z3hhb]buy kindle[/url] unolvinlelt [url=http://snurl.com/1z3hhb]amazon kindle[/url] onetagoadia [url=http://adjix.com/6t6y]kindle[/url] GewPoeleBex [url=http://1url.com/yo/]amazon kindle[/url]

    उत्तर देंहटाएं
  24. समीर लाल जी कों बधाई । इस बेहतरीन समीक्षा के लिए आपका आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  25. I figured that since I'm a new member to the forum, that it would be a good idea to say hello and let you know I'm looking forward to being a helpful member of the community. :-)
    [url=http://www.xxx-livecam-xxx.com] cam sex [/url]

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।