समर्थक

मंगलवार, मई 19, 2009

‘‘चन्दा और सूरज’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

चन्दा में चाहे कितने ही, धब्बे काले-काले हों।

सूरज में चाहे कितने ही, सुख के भरे उजाले हों।

लेकिन वो चन्दा जैसी शीतलता नही दे पायेगा।

अन्तर के अनुभावों में, कोमलता नही दे पायेगा।।

सूरज में है तपन, चाँद में ठण्डक चन्दन जैसी है।

प्रेम-प्रीत के सम्वादों की, गुंजन वन्दन जैसी है।।

सूरज छा जाने पर पक्षी, नीड़ छोड़ उड़ जाते हैं।

चन्दा के आने पर, फिर अपने घर वापिस आते हैं।।

सूरज सिर्फ काम देता है, चन्दा देता है विश्राम।

तन और मन को निशा-काल में, मिलता है पूरा आराम।।

22 टिप्‍पणियां:

  1. इन गर्मियों में तो ऐसा ही है...सूरज निकलते ही पक्षी तो क्या सभी अन्दर दुबक जाते है ,जो चाँद निकलने पर ही रहत महसूस करते है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिसका काम उसी को साजे,
    और करे तो डंडा बाजे!
    ------------------------
    नए ब्लॉग पर नई रचना का स्वागत है!
    ---------------------------
    बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएँ!
    ------------------------

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई एक और ब्लौग की सौगात हमें मिली.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह.......सूरज और चाँद में कोमल भेद बताती सुन्दर रचन है ...........अनोखा अंदाज पसंद आया
    अच्छी रचना है

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut achhi kavita k liye bahut achhi badhai sweekar karen

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिंदी ब्लॉग की दुनिया में आपका हार्दिक स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. Shastri Ji.
    Aapka MAYANK blog bahut sunder hai.
    Badhai

    उत्तर देंहटाएं
  8. शास्त्री जी ।
    ब्लॉग बहुत खूबसूरत है।
    मुबारकवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मयंक जी।
    आपकी क्रियाशीलता देख कर
    मुझे भी प्रेरणा मिलती है।
    नए ब्लॉग का स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी।
    नए ब्लॉग का हार्दिक स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मयंक जी।
    ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  12. नई प्रविष्टी के साथ,
    ब्लॉग की दुनिया में
    आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. HINDI BLOGING MEN NEW POST KE SATH AAPKA SWAGAT HAI.
    ASHVHAYA HAI KI 4-4 BLOGS KO AAP MANAGE KARRAHE HAIN.

    उत्तर देंहटाएं
  14. मेरी भी बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपके द्वारा बनाया गया ब्लॉग,
    सुन्दर और आकर्षक है।
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  17. sooraj aur chand ke swabhav ka antar vyakt karti kavita.
    bahut badhiya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  18. kya baat hai suraj or chanda mama kee sath me aapki. narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।