समर्थक

गुरुवार, दिसंबर 03, 2009

"कहाँ सोया है उत्तराखण्ड का वन विभाग? " (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

!! बाघ (शेर) ने एक बालिका को फिर निवाला बनाया...!!

कहाँ सोया है उत्तराखण्ड का वन विभाग?

क्षेत्र के लोग कब तक शेर के मुँह का ग्रास बनते रहेंगे?

11 टिप्‍पणियां:

  1. विभाग अपना दायित्व निर्वहन करे तो क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वन क्षेत्रो के काम होने और अन्य क्षेत्रो से लेजाकर बाघों को उस क्षेत्र में छोड़ने की वजह से ये घटनाएं हो रही है, प्रशाशन के भरोसे रहना तो समय बर्बाद करने जैसा है, मगर इन जानवरों को वांट क्षेरो में प्रयाप्त भोजन न उपलब्ध हो पाना इसका प्रमुख कारन है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरकारी कर्मचारियों कर काम तनख्‍वाह लेना तक सीमित हो गया है .. हर क्षेत्र में समस्‍याएं तो आएंगी !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तराखंड के जंगलों से बाघों का भोजन मनुष्य खा गए,बाघों के रहने के छुपने के जंगल मनुष्य ने उजाड़ दिए
    बाघ कहाँ जाये बेचारा, भूखा मरे या बच्चों को
    खाए

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut hi sankatgrast sthiti hai ...........shayad aapke lekh se kisi ke kaan par joon renge.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अत्यन्त दुखद घटना!!सच में वन विभाग और प्रशासन का ध्यान किधर है यह जो कुछ भी हो रहा है शर्मनाक है ..ऐसे कब तक जाने जाती रहेगी..

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्तराखंड में तो ये भयानक हादसा हो गया! बहुत दुःख हुआ सुनकर! फिर आगे ऐसा हादसा न हो उसके लिए वन विभाग को जल्द ही कदम उठाना होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही दुखद एवं भयावह स्तिथि है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. soch raha hun kis baat ke liye vibhag ko kosa jaye, balika ki maut ke liye ya baagh ko bhukha maarne ke liye ya fi chupchap baith kar tamasha dekhne ke liye.. fir sochta hun, kya is ravaiye ke liye ham sab bhi utne hi jimmedar nahi...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।