समर्थक

शुक्रवार, जुलाई 31, 2009

मुंशी प्रेमचन्द के जन्म दिवस पर गोष्ठी सम्पन्न।

आज 31 जुलाई को
उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचन्द का 130वाँ जन्म दिन है।

इस अवसर पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, खटीमा के हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सिद्धेश्वर सिंह के निवास पर इस उपलक्ष्य में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता शिक्षाविद् गीताराम बंसल ने की तथा संचालन राजकीय इण्टर कालेज के प्रवक्ता डॉ. गंगाधर राय ने किया।


इस अवसर पर सबसे पहले जाने माने ब्लॉगर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ने सरस्वती वन्दना का पाठ किया ।


इसके बाद डॉ. सिद्धेश्वर सिंह ने मुंशी प्रेमचन्द के व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डाला।


अनेक पत्र-पत्रिकाओं में छप चुके राज किशोर सक्सेना राज ने अपनी सशक्त कविता के माध्यम से उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचन्द को श्रद्धांजलि समर्पित की।

‘‘है अतुल तुम्हारा योगदान, भाषा का रूप सँवारा है।

हे गद्य विघा के प्रेमचन्द्र तुमको शत् नमन हमारा है।।’’


इस अवसर पर रूमानी शायर गुरू सहाय भटनागर ‘बदनाम’ न मुंशी प्रेमचन्द को याद करते हुए अपनी रूमानी कविता का वाचन किया।
संचालन कर रहे डॉ. गंगाधर राय ने उपन्यास सम्राट की कई कहानियों की चर्चा करते हुए गोष्ठी को जीवन्तता प्रदान की।
गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में पधारे उद्योगपति पी0एन0सक्सेना ने मुंशी प्रेमचन्द केे साहित्य इस युग में भी प्रासंगिक बताते हुए इस चर्चा को सार्थक बताया।
अन्त में अध्यक्ष पद से बोलते हुए शिक्षाविद् गीताराम बंसल ने मुंशी जी को साहित्य का युगपुरुष बताते हुए गोष्ठी का समापन किया।

11 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम चन्द जी को आज याद करना उनके द्वारा स्थापित मूल्यों का समर्थन करना है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी सहृदयता और सक्रियता का कायल हूँ.

    अच्छी और त्वरित रपट!

    आभार ! शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. munshiji ki pavan smriti ko pranaam !

    sangoshthi k liye badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  4. Mayank ji dhanyavaad.
    bahut achchhi coverage lagaai hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. शास्त्री जी!
    इतनी शीध्रता से रपट लगाने के लिए,
    मुबारकवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. गोष्ठी की बहुत अच्छी कवरेज लगाई है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut achchi prabhavshali lagi aapki prastuti.sachmuch sarahneey.badhai!

    उत्तर देंहटाएं
  8. चट मंगनी पट व्याह वाली स्टाइल में तुरत-फुरत में भी माननीय मुंशी प्रेमचंद जी के १३०वे जन्म-दिन के उपलक्ष्य में आयोजित गोष्ठी का चित्रों के साथ काफी रोचक और प्रसंसनीय रिपोर्ट पेश करने हेतु आपका आभार.

    मुंशी जी के १३०वे जन्म- दिन पर मेरी यह टिपण्णी ही बधाई स्वरुप आपकी गोष्ठी को समर्पित है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. Premchand ji ko yada karna sukhad laga...achhi report lagai apne.

    फ्रेण्डशिप-डे की शुभकामनायें. "शब्द-शिखर" पर देखें- ये दोस्ती हम नहीं तोडेंगे !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. aese sahityakaro ki kami ko , kuchh aapke jaise hi kadam utha kar poora kiya jaa sakta hai . ye samman sarahaniye hai ,kaash hum bhi shamil ho paate is adbhut bela pe .hum sirf pathak hi bankar rah jaate hai ,is dharohar ko jeevit rakhane ke liye aesi goshti avam samaroh bhi atyant jaroori hai .premchand ji ko shat-shat naman ,sarahniye karya saadhuwaad .

    उत्तर देंहटाएं
  11. mayank ji aapki dairy sachmuch gyanvardhak hai .bahut hi khoobsurati ke saath report taiyaar ki gayi hai .achchha laga aakar .

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।