समर्थक

शनिवार, जुलाई 18, 2009

‘‘चम्पावत जिले की सुरम्य वादियाँ’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


अगर कभी आपका कार्यक्रम उत्तराखण्ड में कुमाऊँ में घूमने का बन जाता है तो दिल्ली से 350 किमी मुरादाबाद से 185 किमी की दूरी पर नेपाल सीमा पर बसा टनकपुर शहर है। इसे पहाड़ों का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है।

(चित्र माता श्री पूर्णागिरि दरबार, चम्गावत-उत्तराखण्ड)

सिद्ध-पीठ के रूप में मानी जाने वाली माता पूर्णागिरि के रास्ते में टनकपुर से 14 किमी दूर शारदा नदी के किनारे घने जंगलों के बीच एक स्थान बूम के नाम से जाना जाता है।

इसके प्राकृतिक नजारे तो आपको अपनी ओर आकर्षित करेंगे ही साथ ही यहाँ बंगाली शैली का माता माधवी का मन्दिर भी आपका मन जरूर मोह लेगा।

माता माधवी के मन्दिर के साथ ही यहाँ उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग ने एक छोटा सा गेस्ट हाउस भी बना दिया है।

आज होली का दिन है। कल रंगों की दुल्हैण्डी होगी। घर में कुछ अतिथि भी आये हुए हैं । अतः आज बूम में पिकनिक मनाने का कार्यक्रम बन ही गया। सबसे पहले हम लोग दो कारों में बैठ कर बूम पहुँचे। शारदा नदी के कल-कल निनाद ने मन ऐसा मोहा कि नदी में स्नान का मूड बन ही गया। एक घण्टे में सब लोग स्नान से निवृत्त हो गये। इसके बाद हम लोग उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग द्वारा बनाये गये गस्ट हाउस की टैरेस पर आ गये।

जिस पर विशाल टीन शेड बना हुआ है। पूर्णागिरि मेले के समय में इसमें 100 के लगभग फोल्डिंग चारपाई बिछा दी जाती हैं। कुछ श्रद्धालू यहाँ भी रात्रि विश्राम कर ही लेते हैं। हम लोगों ने यहाँ कुछ देर विश्राम किया और रसोइए को खाना बनाने को कह दिया गया। इसके बाद हम लोग माता माधवी देवी के आश्रम में विशाल मन्दिर को देखने गये।

आप भी देखें। इन सुन्दर दृश्यों को-
मन्दिर में दर्शन के उपरान्त हम लोग पुनः गेस्ट हाउस में आये टैरेस पर ही दरी बिछा कर भोजन किया और पिकनिक पूरी हो गयी।

10 टिप्‍पणियां:

  1. यह यात्रा बड़ी सुखद रही, आशा है आओ और वृतांत प्रस्तुत करेंगे
    -----
    पढ़िए: सबसे दूर स्थित सुपरनोवा खोजा गया

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनमोहक यात्रा
    मन मंदिर मंदिर हो गया
    चित्रों ने आंखों को संपूर्ण तृप्ति प्रदान की।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap to hum sabko nayi nayi jankari dete hain uske sath aisa lagta hai jaise hamne bhi bhraman kar liya ho...........shukriya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. चम्पावत की सुरम्य वादियों के दर्शन अच्छे रहे.. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिलकुल नई जगह की सचित्र जानकारी मिली - आभार !
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  6. चंपावत की झांकी प्रस्तुत कर दी। सुंदर वर्णन।
    बुलंदशहर और आसपास के जिलों के लोग माता पूर्णागिरि के दर्शन करने हर साल जाते हैं।
    बहुत मान्यता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ख़ूबसूरत तस्वीरों के साथ आपने बड़े ही सुंदर रूप से विस्तार किया है और आपको इस बात का धन्यवाद कहते हैं कि हमें नए नए जगहों से परिचित करवाया आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut sundar ... apna uttarakhand to sundarta ka dhani hai... aapki yah psot achchi lagi abhi kuch samay pahle mere blog me purnagiri ke bare me likha gaya tha...
    ho sake to mandir ke kuch photo mujhko e mail karva de .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. तस्वीरों से भरी रोचक यात्रा वर्णन सजीव सा लगता है और ऐसा प्रेअतीत होता है कि यात्रा स्वयं की ही है.
    सुन्दर लेखन और प्रस्तुति शैली पर हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Apne to baithe-baithe hi darshan kara diye...manmohak yatra !!

    मेरे ब्लॉग "शब्द सृजन की ओर" पर पढें-"तिरंगे की 62वीं वर्षगांठ ...विजयी विश्व तिरंगा प्यारा"

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

कृपया नापतोल.कॉम से कोई सामन न खरीदें।

मैंने Napptol.com को Order number- 5642977
order date- 23-12-1012 को xelectron resistive SIM calling tablet WS777 का आर्डर किया था। जिसकी डिलीवरी मुझे Delivery date- 11-01-2013 को प्राप्त हुई। इस टैब-पी.सी में मुझे निम्न कमियाँ मिली-
1- Camera is not working.
2- U-Tube is not working.
3- Skype is not working.
4- Google Map is not working.
5- Navigation is not working.
6- in this product found only one camera. Back side camera is not in this product. but product advertisement says this product has 2 cameras.
7- Wi-Fi singals quality is very poor.
8- The battery charger of this product (xelectron resistive SIM calling tablet WS777) has stopped work dated 12-01-2013 3p.m. 9- So this product is useless to me.
10- Napptol.com cheating me.
विनीत जी!!
आपने मेरी शिकायत पर करोई ध्यान नहीं दिया!
नापतोल के विश्वास पर मैंने यह टैबलेट पी.सी. आपके चैनल से खरीदा था!
मैंने इस पर एक आलेख अपने ब्लॉग "धरा के रंग" पर लगाया था!

"नापतोलडॉटकॉम से कोई सामान न खरीदें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जिस पर मुझे कई कमेंट मिले हैं, जिनमें से एक यह भी है-
Sriprakash Dimri – (January 22, 2013 at 5:39 PM)

शास्त्री जी हमने भी धर्मपत्नी जी के चेतावनी देने के बाद भी
नापतोल डाट काम से कार के लिए वैक्यूम क्लीनर ऑनलाइन शापिंग से खरीदा ...
जो की कभी भी नहीं चला ....ईमेल से इनके फोरम में शिकायत करना के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला ..
.हंसी का पात्र बना ..अर्थ हानि के बाद भी आधुनिक नहीं आलसी कहलाया .....
--
मान्यवर,
मैंने आपको चेतावनी दी थी कि यदि आप 15 दिनों के भीतर मेरा प्रोड्कट नहीं बदलेंगे तो मैं
अपने सभी 21 ब्लॉग्स पर आपका पर्दाफास करूँगा।
यह अवधि 26 जनवरी 2013 को समाप्त हो रही है।
अतः 27 जनवरी को मैं अपने सभी ब्लॉगों और अपनी फेसबुक, ट्वीटर, यू-ट्यूब, ऑरकुट पर
आपके घटिया समान बेचने
और भारत की भोली-भाली जनता को ठगने का विज्ञापन प्रकाशित करूँगा।
जिसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।
इत्तला जानें।